Bollywood

क्या अब नही रही आमिर-सलमान-शाहरुख में पहले वाली बात वो चमक?

क्या अब नही रही आमिर-सलमान-शाहरुख में पहले वाली बात वो चमक?

 

बॉलीवुड की दुनिया में कही सालो से खानो का दबदबा बना रहा है एक तरह से हम कह सकते है की बॉलीवुड में  (आमिर-सलमान-शाहरुख) का खान युग चल रहा है। इन खान त्रिमूर्तियो ने (आमिर-सलमान-शाहरुख) वैसी ही सफलता और शोहरत हासिल की है जैसी कि राज कपूर-दिलीप कुमार और देवआनंद ने की थी। हालांकि ये तीनों खान पुराने कलाकारों जैसी महान फिल्में तो नहीं दे पाए, लेकिन सफल फिल्मों के जरिये अपने दबदबे को बनाए रखा।

खान्स पर उनकी काबिलियत को लेकर यह सवाल उठाना थोड़ी जल्दबाजी तो है, लेकिन कहा जा सकता है कि खान्स के मजबूत किले में दरारें पड़ने लगी हैं। कुछ वर्ष पहले सलमान, आमिर और शाहरुख का फिल्म में होना मात्र ही सफलता की गारंटी माना जाता था, लेकिन अब ऐसा नहीं रहा। इन सुपरस्टार्स को भी अब अच्छी कहानी, निर्देशक और सेटअप की जरूरत पड़ने लगी है। सिर्फ अपने स्टारडम के बूते पर खराब फिल्म को भी सुपरहिट कराना इनके बस की बात नहीं रही है।
हां हम यह कह सकते की अभी इनमे वो बात और वो चमक जरूर है कि ये फिल्म को जोरदार ओपनिंग दिलाने में सबसे आगे हैं, लेकिन फिल्म अगर खराब निकले या फ्लॉप हो तो उसे सफल बनाने की ताकत इनमें नहीं है। यदि फिल्म अच्‍छी हो तो इनमे इतनी क्षमता जरूर है की यह उस मूवी को  300 या 350 करोड़ तक खींच कर ले जा सकते है।
यदि हम इन खान्स की पिछली 5 फिल्मों (जिनमें ये अहम रोल में हैं) के बॉक्स ऑफिस प्रदर्शन की बात करे तो यह स्पष्ट हो जाता है कि खान युग अब ढलान की ओर है।
प्रेम रतन धन पायो (2015) : हिट
सुल्तान (2016) : ब्लॉकबस्टर
ट्यूबलाइट (2017) : फ्लॉप
टाइगर जिंदा है (2017) : ब्लॉकबस्टर
रेस 3 (2018) : फ्लॉप
अगर हम सलमान खान की बात करे तो एक दौर ऐसा था जब माना जाता था कि सलमान खान यदि किसी फिल्म में बिना परफॉर्मेंस के सिर्फ ढाई घंटे तक खड़े रहें तो भी फिल्म ब्लॉकबस्टर हो जाएगी, लेकिन अब ये बाते झूठ लगने लगी है अब ऐसा नहीं रहा है । “ईद और सलमान की सफलता” की गारंटी वाला मिथक भी टूटा है। सलमान की पिछली पांच फिल्मों में से दो फ्लॉप रही हैं। और सलमान की फ्लॉप फिल्मों ने फिल्म इंडस्ट्रीज में हलचल मचा दी है। सलमान की इस असफलता ने खान्स की नीव को हिलाकर रख दिया है।
तलाश (2012) : फ्लॉप
धूम 3 (2013) : ब्लॉकबस्टर
पीके (2014) : ब्लॉकबस्टर
दंगल (2016) : ब्लॉकबस्टर
ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान (2018) : फ्लॉप
और अगर हम आमिर खान की बात करे तो इन्हे लोग मिस्टर परफेक्शनिस्ट के नाम से भी जानते है यह हर मूवी के बारे में पहले काफी सोच-विचार करते है उसी के बाद मूवी करते है, लेकिन हाल ही में आई इनकी मूवी  ‘ठग्स ऑफ हिन्दोस्तान’ ने इस भरोसे को तोड़ दिया है। निहायत ही बेतुकी फिल्म आमिर ने क्यों साइन की यह सवाल उनके फैंस की जुबां पर भी है। लगातार ब्लॉकबास्टर मूवी दे रहे आमिर को ठग्स ने करारा झटका दिया है। उनकी पिछली पांच फिल्मों में से दो तो फ्लॉप रही हैं, लेकिन तीन फिल्मों ने ऐतिहासिक कामयाबी हासिल की है।

हैप्पी न्यू ईयर (2014) : सुपरहिट

दिलवाले (2015) : औसत

फैन (2016) : फ्लॉप

रईस (2017) : औसत

जब हैरी मेट सेजल (2017) : फ्लॉप                                                                                                                                                                                                                                                                                                                    इन फिल्मो से साफ पता चलता है की तीनों खानों में शाहरुख खान का प्रदर्शन सबसे अधिक कमजोर हो गया है और वो इन खान्स की तिकड़ी में सबसे कमजोर स्टार हैं। उनकी पिछली पांच फिल्मों में से महज एक सुपरहिट रही है। फैन और जब हैरी मेट सेजल तो इतनी बुरी तरह फ्लॉप हुईं है की 100 करोड़ के आंकड़े के पास पहुंचने के पहले ही धड़ाम हो गई। अगर इस बार भी यदि “ज़ीरो” पर इस हीरो का दांव असफल रहा तो इस किंग खान का किला ढह जाएगा।

अब धीर धीरे तीनों खान्स को नए स्टार्स की चुनौतीया मिल रही है। या यु कहे की इनकी बराबरी में और स्टार्स आ गए है  रणबीर कपूर और रणवीर सिंह भी 300 करोड़ क्लब के लिए फिल्म दे चुके हैं। वरुण धवन तेजी से उभर रहे हैं। इनको यदि अच्छा निर्देशक मिल जाता है तो इनकी फिल्में भी बॉक्स ऑफिस पर कमाल कर सकती है। हिरानी के साथ यदि आमिर ने 300 करोड़ का बिजनिस करने वाली फिल्मे दी है तो रणबीर के साथ भी दी है।
परन्तु तमाम असफलताओं और चुनौतीयो के बावजूद भी फिलहाल खान्स बॉलीवुड के अन्य सितारों से आगे खड़े हैं, लेकिन उनके आगे अब ढलान ही ढलान है।
Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *